[PDF] Megasthinej Ka Bharatvarshiya Varnan by Ramchandra Shukla - eBookmela

Megasthinej Ka Bharatvarshiya Varnan by Ramchandra Shukla

मेगास्थनीज (Megasthenes) एक प्राचीन ग्रीक रजदूत और इतिहासकार थे जो 4th शताब्दी ईसा पूर्व में चंद्रगुप्त मौर्य के दरबार में भारत में रहे थे। उनका कार्य “इंडिका” (Indica) नामक ग्रन्थ मशहूर है, जिसमें उन्होंने भारतीय उपमहाद्वीप के बारे में विस्तार से विवेचन किया था। इसमें उनकी यात्रा के समय के भारतीय समाज, राजनीति, धर्म, और विज्ञान की विविधता का वर्णन होता है।

यह एक अनुवादित उदाहरण है जिसमें मेगास्थनीज ने भारत के जनजातियों और समृद्धि के बारे में कुछ उल्लेख किया:

“यहां अनेक जातियां हैं, लेकिन इस प्रकार की जनजातियों का भी संघ है जो सर्वाधिक प्रख्यात है, जो बौद्ध धर्म के अनुयायियों का सान्निध्य है, जिन्हें संख्या के आधार पर सबसे बड़ा खंड मिला है। इनके बारे में कहा जाता है कि वे अपनी जीवनशैली में अत्यंत ईमानदार और न्यायप्रिय हैं।”

मेगास्थनीज का “इंडिका” भारतीय समृद्धि, सांस्कृतिक परंपरा, और समाज की एक अनूठी झलकी प्रदान करता है जो आधुनिक भारतीय इतिहास और संस्कृति को समझने में मदद करती है।

Gulzar E Naqabat /گزار نقابت
TitleGulzar E Naqabat /گزار نقابت
Creatorمولانا علامہ اقبال قادری
Added Date2019-04-22 08:28:05
LanguageAfar
SubjectArray
Mediatypetexts
CollectionArray
IdentifierGulzarENaqabat
Description
bdddd

Book Information

FieldValue
TitleGulzar E Naqabat /گزار نقابت
Creatorمولانا علامہ اقبال قادری
LanguageAfar
Mediatypetexts
Subjectنقابت, اکبر بک سیلرز
Collectionislamic_studies, additional_collections
Uploader[email protected]
IdentifierGulzarENaqabat

You May Also Like

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

eBookmela
Logo
Register New Account